447 शिक्षकों को वेतन नहीं देने का आदेश

हिन्द सागर, प्रमोद कुमार/पुणे: शिक्षक पात्रता परीक्षा घोटाले में अयोग्य माने गए 576 शिक्षकों को अगस्त से सैलरी नहीं देने का आदेश प्राथमिक शिक्षा विभाग ने हाल ही में दिया था। इसके बाद अब माध्यमिक के 447 शिक्षकों का भी वेतन नहीं देने का आदेश माध्यमिक और उच्य माध्यमिक शिक्षा विभाग ने दिया है । प्राथमिक और माध्यमिक को मिलाकर 1 हजार 23 शिक्षकों का वेतन रोक दिया गया है। माध्यमिक के 447 शिक्षक राज्य के निजी अनुदानित, आंशिक रूप से अनुदानित माध्यमिक और उच्च माध्यमिक स्कूलों में कार्यरत है। उच्च माध्यमिक शिक्षा संचालक महेश पालकर ने संबंधित लोगों का अगस्त से वेतन रोकने का पत्र सभी विभागीय शिक्षा उपसंचालक, जिला परिषद के प्राथमिक शिक्षणाधिकारी,भविष्य निर्वाह निधि टीम, मनपा के प्रशासनिक अधिकारी, नगरपालिका, नगर परिषद, कटक मंडल के मुख्याधिकारी को दिया है। टीईटी परीक्षा 2019 के घोटाले में शामिल उम्मीदवारों की सेवा समाप्त करने और कारवाई निश्चित करने के संदर्भ में परीक्षा परिषद के आयुक्त की तरफ से प्राथमिक शिक्षा विभाग को उम्मीदवारों की सूची सौंपी गई थी। इस सूची के संबंधित उम्मीदवारों के आधार कार्ड और स्कूल आइडी के अनुसार मैपिंग की गई । अयोग्य उम्मीदवारों में से 576 उम्मीदवार टीचर या सह शिक्षक के रूप में कार्यरत है और वेतन अनुदान लेते पाए गए है। इसे देखते हुए संबंधित 576 उम्मीदवारों का वेतन या उसमें अंतर नजर आने पर संबंधित अधिकारियों पर नियमानुसार कारवाई के प्रस्ताव की चेतावनी दी गई है। परीक्षा परिषद ने वेबसाइट पर अयोग्य उम्मीदवारों की सूची डाली है। इसके अनुसार जिले के अयोग्य उम्मीदवारों की पुष्टि कर वेतन रोके गए 447 उम्मीदवारों के अलावा अन्य उम्मीदवारों के नाम स्कूल सिस्टम में पाए जाने पर उनकी स्कूल आइडी जब्त करने को लेकर विभाग की तरफ से निर्देश दिए गए है।